क़ासिद

मां के लिए एक ख़त लिखा था, शायद अब उन तक पहुंच गया होगा...

Advertisements